शेर-ओ-शायरी

<< Previous  आँखें   (Eyes)  Next >>

यह दमकता हुआ चेहरा, यह नशीली आंखें,
चाँदनी रात में मैखाना खुला हो जैसे।
-'जौकी' रामपुरी

1.मैखाना - शराबखाना, मदिरालय

 

*****

यह दिलफरेब तबस्सुम, यह मस्त मस्त नजर,
तुम्हारे दम से चमन में बहार बाकी है।
- वाहिद प्रेमी

*****

यह बात, यह तबस्सुम, यह नाज, यह निगाहें,
आखिर तुम्हीं बताओं क्यों कर न तुमको चाहे।

-'जोश' मलीहाबादी


1.तबस्सुम - मुस्कान, मुस्कुराहट, मंदहास, स्मित

 

*****

यह शर्मगीं निगाह,यह तबस्सुम निकाब में,
क्या बेहिजबियाँ है, तुम्हारे हिजाब में।

-जकी


1.शर्मगीं - शर्म से झुकी हुई

2.तबस्सुम - मुस्कान, मुस्कराहट, स्मित, मंदहास
3.निकाब - (i) घूँघट, मुखावरण, मुखपट (ii) ओट, आड़

4.बेहिजबियाँ - घूँघट हटा देना 5. हिजाब - आड़, पर्दा,
 

*****
 

<< Previous   page - 1-2-3-4-5-6-7-8-9-10-11-12-13-14-15-16-17-18-19  Next >>