शेर-ओ-शायरी

<< Previous  आँखें   (Eyes)  Next >>

वह आड़ में पर्दे के तेरी नीमनिगाही
टूटे हुए तीर का इक टुकड़ा है जिगर में।
-'निहाल' सेहरारवी
 

1.नीमनिगाही - कनखियों से देखना

 

*****

वह नजर उठ गई जब सरे-मैकदा,
खुद -ब-खुद जाम से जाम टकरा गये।
-'इकबाल' शफीपुरी


1.सरे-मैकदा - शराबखाने में


*****

शामिल है इसमें तेरी नजर के सरूर भी,
पीने न दूँगा गैर को मैं अपने जाम से।

-'शकील' बदायुनी


1.सरूर - हल्का नशा

 

*****

शिकन न डाल जबीं पर शराब देते हुए,
यह मुसकुराती हुई चीज मुसकुराके पिला।
सरूर चीज के मिकदार पै नहीं है मौकूफ,
शराब कम है साकी तो नजर मिला के पिला।


1.शिकन - सिलवट, सिकुड़न, बल 2.जबीं - माथा, भाल, ललाट
3. सरूर - नशा, हलका नशा 4.मिकदार - मात्रा, वजन, तोल
5.मौकूफ - निर्भर, आधारित

 

*****
 

<< Previous   page -1-2-3-4-5-6-7-8-9-10-11-12-13-14-15-16-17

-18-19  Next >>