शेर-ओ-शायरी

बदगुमानी (Misapprehension)

आते-आते आयेगा मुझ पर यकीं,
जाते-जाते  बदगुमानी  जायेगी।

-'कौल' जोधपुरी

1.बदगुमानी - कुधारणा, किसी की ओर से बुरा खयाल

 

*****

इतना करीब आके भी क्या जाने किस लिए,
कुछ अजनबी से आप हैं, कुछ अजनबी से हम।

-शकील बंदायुनी

 

*****

ऐतियात से फेको संग बदगुमानी के,
इनसे दोस्ती के आइने टूट जाते हैं।


1.संग - पत्थर 2.बदगुमानी - किसी की ओर से बुरा खयाल, किसी के बारे में गलत धारणा रखना, कुधारणा

 

*****


किस-किस तरह से किया अपना जी निसार,
लेकिन न गई दिल से तेरी बदगुमानियाँ।

-हसरत मोहानी
 

1.बदगुमानियाँ - कुधारणाएं , गलतफहमियां

 

*****

बाद रंजिश के गले मिलते हुए रूकता है जी,
है मुनासिब अब यही कुछ तुम बढ़ो कुछ मैं बढूँ।

-मीरतकी मीर

 

*****