शेर-ओ-शायरी

<< Previous   बदनसीबी  (Bad luck)   Next >>

देखा मुझे तो फूट के रोया,
अब समझा, समझाने वाला।

-हरिचन्द अख्तर

 

*****


दौराने-असीरी नजरों में हर वक्त नशेमन रहता था,
जब छूट के आये गुलशन में, हम अपना ठिकाना भूल गये।

-'जेब' बरेलवी


1. दौराने-असीरी - कैद
या कारावास के दौरान 2. नशेमन - घोंसला, नीड़  
 

*****


न इधर के रहे, न उधर के रहे,
न खुदा ही मिला, न विसाले-सनम।


1.विसाल - मिलन 2.सनम - प्रेयसी, प्रेमिका, माशूक

 

*****


निगाहे-यार मुझसे आज बेतकसीर फिरती हैं,
किसी की कुछ नहीं चलती, जब तकदीर फिरती है।

-गाफिल


1. बेतकसीर - बिना किसी कुसूर के

 

*****

 

          << Previous   page - 1-2-3-4-5-6-7-8-9-10-11  Next >>