शेर-ओ-शायरी

<< Previous  बेरुखी  (Irresponsiveness)   Next >>

ऐ सितमगर मेरे इस हौसले की दाद दे,
सामने तेरे अगर फरियाद कर लेता हूँ मैं।

-अर्श मल्सियानी


1. सितमगर - जुल्म ढानेवाला 2.फरियाद - (i) शिकायत, परिवाद (ii) न्याय-याचना (iii) सहायता के लिए पुकार, दुहाई

 

*****


ऐसा न हो यह दर्द बने दर्द-ए-लादवा,
ऐसा न हो तुम भी मुदावा न कर सको।

-गुलाम मुस्तफा तबस्सुम


1.लादवा - लाइलाज 2.मुदावा - इलाज, दवा, उपचार

*****


कब मैं कहता हूँ तेरा गुनहगार न था,
लेकिन इतनी तो अकूबत का सजावार न था।
-काइम


1. अकूबत - सख्ती, कड़ाई

 

*****

कभी किसी को यह खयाल आ ही जायेगा इसका,
कि हमको खो के, किसी ने कुछ गवांया है।
-अब्दुल हमीद अदम
 

*****

 

<< Previous    page -1- 2-3-4-5-6-7-8-9-10-11-12-13-14-15-16-17-18-19-20-21-22-23  Next >>