शेर-ओ-शायरी

<< Previous  बेरुखी  (Irresponsiveness) Next >>

कहीं मर न जाये सितम सहने वाले,
तगाफुल में थोड़ी-सी तख्फीफ फर्मायें।

-अब्दुल हमीद 'अदम'

1.तगाफुल - उपेक्षा, बेतवज्जुही 2.तख्फीफ - कमी

 

*****

काबा किधर है शुक्र का सिज्दा अदा करूँ,
अल्लाह आप आये हैं मेरे मकान पर।

-साकिब लखनवी
 

*****

कहीं धब्बा न लग जाये तेरी बन्दानवाजी पर,
हमें भी देख मुद्दत से तेरी महफिल में रहते हैं।

-आजाद बारानवी

1.बन्दानवाजी - अपने चाहने वालों पर इनायत,

अपने सेवकों और भक्तों पर कृपादृष्टि

 

*****

काटा गया न कुर्बते-पैहम के बावजूद,
वह फासिला जो देखने में फासिला न था।

-साहिर नौबहार मडरिया

1.कुर्बते-पैहम - लगातार पास होना

 

*****

 

<< Previous   page -1-2-3-4-5-6-7-8-9-10-11-12-13-14-15-16-17-18-19-20-21-22-23  Next >>