शेर-ओ-शायरी

<< Previous  बेवफाई (Ungratefulness)  Next >>

सारी दुनिया के हैं वह मेरे सिवाय,
मैंने दुनिया छोड़ दी जिनके लिये।

-अमीर 'मीनाई'

 

*****

सितम है लाश पर उस बेवफा का यह कहना,
कि आने का भी न किसी ने इन्तिजार किया।

-'अजीज' लखनवी 

 

*****


सितम को हम करम समझे, जफा को हम वफा समझे,
जो इस पर भी न समझे वह तो उस बुत को खुदा समझे।

अब्राहम 'जौक'
1. सितम - जुल्म, अत्याचार

 2.करम - मेहरबानी, रहम 3.जफा - अत्याचार, जुल्
 

*****


सीने में जैसे फाँस खटकती है दम-ब-दम,
तेरा खयाल दर्दे-जिगर बनके रह गया।

-सिकन्दर अली 'वज्द'
 

*****

 

<< Previous  page - 1-2-3-4-5-6-7-8-9-10-11-12-13-14-15-16-17-18-19-20-21-22-23-24-25-26-27-28-29-30-31-32-33-34-35-36-37-38-39-40-41-42-43-44-45  Next >>