शेर-ओ-शायरी

<< Previous  दोस्ती  (Friendship) Next >>

  जहाँ दुनिया निगाहें फेर लेगी,
वहाँ ऐ दोस्त तुमको हम मिलेंगे।

-रविश सिद्दकी

 

*****

 

जिन्दगी आप की ही नवाजिश है,
वरना ऐ दोस्त हम मर गये होते।

-अब्दुल हमीद अदम


1.नवाजिश- कृपा, इनायत

 

*****

जिन्दगी के उजाले हैं तुम से,
तुम जहाँ हो वहीं रौशनी है।

-सरवर

 

*****

 

जिसे रौनक तेरे कदमों ने देकर छीन ली रौनक,
वो लाख आबाद हो, उस घर की वीरानी नहीं जाती।

-जिगर मुरादाबादी

 

*****

 

<< Previous    page - 1 - 2 - 3 - 4 - 5 - 6 - 7 - 8 - 9 - 10  Next >>