शेर-ओ-शायरी

<< Previous हौसला  (Fearlessness)  Next>>

बाज आ साहिल पै गोते खाने वाले बाज आ,
डूब मरने का मजा दरिया-ए-बेसाहिल में है।

-यगाना चंगेजी


1.साहिल - किनारा, तट

2. दरिया-ए-बेसाहिल - दरिया जिसका किनारा न हो
 

*****

 

बिजलियाँ अपना जोर दिखाती रहीं,
और हम आशियाना बनाते रहे।

 

*****


भंवर से लड़ो तुन्द लहरों से उलझो,
कहाँ तक चलोगे किनारे -किनारे।

-'रजा' हमदानी


1.तुन्द - तेज, भीषण, भयानक

 

*****
 

भरोसा है खुदी पर, नाखुदा की इल्तिजा कैसी,
मेरी कश्ती ही साहिल है, मेरी कश्ती में साहिल है।

-दाग


1.खुदी - स्वयं 2.नाखुदा - मल्लाह, नाविक, कर्णधार
3. इल्तिजा - प्रार्थना, दरखास्त 4. साहिल - किनारा, तट
 

*****

 

<<Previous   page -1-2-3-4-5-6-7-8-9-10-11-12-13-14-15-16-17-18-19-20-21-22-23-24-25-26-27-28-29-30-31-32-33-34-35-36  Next>>