शेर-ओ-शायरी

<< Previous हौसला (Fearlessness)  Next>>

मछली की तरह तड़पायेगा, एहसास तुझे पायाबी का,
जीना है तो अपने दरिया में, इमकाने-तलातुम रहने दे।

-सागर निजामी


1.पायाबी - उथलापन, जहाँ पानी बहुत कम हो 2. इमकान - संभावना
3. तलातुम - पानी का मौजें मारना, बाढ़, तुग्यानी

 

*****

 

 मझधार में जब कश्ती पहूँची, कश्ती वालों पै क्या गुजरी,
यह तूफानों की बातें हैं, आसूदा-ए-साहिल क्या
जानें

-जगन्नाथ आजाद


1.आसूदा-ए-साहिल - किनारे पर रहकर संतोष करने वाले
 

*****

मुकामे-बेखुदी तक ले गए पहले तमन्ना को,
कदम फिर जिस तरफ रखा निशाने-राहे-मंजिल था।


1.मुकामे–बेखुदी - आत्मविस्मृति के मुकाम तक
 

*****


मुद्दतों से मेरे गुलशन का यही अहवाल है,
बिजलियाँ गिरती रहीं और आशियाँ बनते रहे।


1.अहवाल - हाल 2. आशियाँ - घोसला, नीड़
 

*****


<<Previous  page -1-2-3-4-5-6-7-8-9-10-11-12-13-14-15-16-17-18-19-20-21-22-23-24-25-26-27-28-29-30-31-32-33-34-35-36   Next>>