शेर-ओ-शायरी

<< Previous  हौसला (Fearlessness)  Next>>

हजार नाकामियाँ हों 'नश्तर'

हजार गुमराहियाँ हों लेकिन,
तलाशे-मंजिल है अगर दिल से,

तो एक दिन लाजिमी मिलेगी।
-हरगोविंद दयाल 'नश्तर'

 

*****

 

हजार गम सही दिल में खुशी मगर यह है,
हमारे होंठों पर माँगी हुई हंसी तो नहीं।

 

*****

हमको मिटा सके, यह जमाने में दम नहीं,
हमसे जमाना खुद है, जमाने से हम नहीं।

-कतील शिफाई
 

*****


हमने बना लिया है, नया फिर से आशियाँ,
जाओ यह बात फिर किसी तूफां से कहो।

-कतील शिफाई


1.आशियाँ - घोसला, नीड़, कुलाय
 

*****

 

<<Previous page -1-2-3-4-5-6-7-8-9-10-11-12-13-14-15-16-17-18-19-20-21-22-23-24-25-26-27-28-29-30-31-32-33-34-35-36  Next>>