शेर-ओ-शायरी

<< Previous  हौसला (Fearlessness)   Next>>

हमारे जमाने का दस्तूर यह है,
वही जीतते हैं जो खाते हैं मातें।

-अफसर मेरठी
 

*****


हयाते-जाविदाँ आई है जाँबाजों के हिस्से में,
हमेशा जीतते हैं वो जो खाते हैं मातें।

-जोश मल्सियानी


1.हयाते-जाविदाँ - अमर जिन्दगी, न खत्म होने वाली जिन्दगी
 

*****

हर इक मुश्किल बदल जाती है आसानी की सूरत में,
अगर दिल आजमाइश के लिये तैयार हो जाये।


*****


हर चन्द आसमान लहू से था तरबतर,
जख्मी परिन्द बाज न आया उड़ान से।

*****

 

<<Previous   page -1-2-3-4-5-6-7-8-9-10-11-12-13-14-15-16-17-18-19-20-21-22-23-24-25-26-27-28-29-30-31-32-33-34-35-36   Next>>