शेर-ओ-शायरी

<<Previous  हुस्न (Beauty)   Next >>

उफ वह मरमर-सा तराशा हुआ शफ्फाफ बदन,
देखने वाले उसे ताजमहल कहते हैं।

-'कतील' शिफाई


1.शफ्फाफ - (i) स्वच्छ, उज्जवल, चमकदार (ii) निर्मल, साफ, शुद्ध

 

*****

उलझा है पाँव यार का जुल्फे-दराज में,
लो आप अपने दाम में सैयाद आ गया।
-मोमिन खाँ मोमिन


1.जुल्फे-दराज - लम्बी जुल्फें 2.दाम - फंदा, जाल, पाश 3. सैयाद - बहेलिया, चिड़ीमार, आखेटक शिकारी, व्याध, शाकुनिक

 

*****

उस घड़ी देखो उसका आलम,
नींद में जब हो आंख भारी।
-असर लखनवी


1. आलम - स्थिति, दशा, हालत

 

*****

उसका सरापा मुझसे पूछो,
चेहरा ही चेहरा पाँव से सर तक।
-फिराक गोरखपुरी


1. सरापा - आपादमस्तक, सर से पाँव तक

 

*****


 

<<Previous page -1-2-3-4-5-6-7-8-9-10-11-12-13-14-15-16-17-18-19-20-21-22-23-24-25-26-27-28-29-30-31-32-33-34-35-36-37-38-39-40-41-42-43-44-45-46-47-48-49-50-51-52-53-54-55-56-57-58-59-60-61-62-63-64-65-66-67-68-69-70-71-72-73-74     Next >>