शेर-ओ-शायरी

<< Previous हुस्न (Beauty)  Next >>

आइने में हर अदा को देखकर कहते हैं वो,
आज देखा जाइए, किस-किस की है आई हुई।

-अमीर मीनाई

 

*****


आप कहते है बार-बार नहीं,
हमको हाँ का भी एतबार नहीं।

-रविश सिद्दकी

 

*****

आप के गैसुओं की साया है,
लोग जिसको बहार कहते हैं।

-नरेश कुमार 'शाद'

 

*****

आप जिनके करीब होते हैं

वह बड़े खुशनसीब होते हैं।

आप हों, य हो, खल्वत हो

दिन ये किसको नसीब होते है
जुल्म करते हैं और मुकरते हैं,
ये हसीं भी अजीब होते हैं।

-नूह नारवी

1
मय - शराब, मदिरा 2.खल्वत - एकान्त

 

*****

 

<< Previous  page -1-2-3-4-5-6-7-8-9-10-11-12-13-14-15-16-17-18-19-20-21-22-23-24-25-26-27-28-29-30-31-32-33-34-35-36-37-38-39-40-41-42-43-44-45-46-47-48-49-50-51-52-53-54-55-56-57-58-59-60-61-62-63-64-65-66-67-68-69-70-71-72-73-74    Next>>