शेर-ओ-शायरी

<< Previous  हुस्न  (Beauty)   Next>>

वहाँ जवाब के लिये जहमत उठा रही है खिरद,
जहाँ सवाल खुद अपना जवाब होता है।
-अब्दुल हमीद 'अदम'


1.जहमत - दुख, तकलीफ, कष्ट 2.खिरद - बुद्धि, मनीषा, अक्ल
 

*****


वही रंगे - तगाफुल है, वही नाजे - तगाफुल है,
न जज्बे-शौक काम आया, न तर्के-शौक का आया।
-'रविश' सिद्दकी


1.रंगे–तगाफुल - उपेक्षा या बेतवज्जुही के अन्दाज 2. नाजे–तगाफुल - उपेक्षा या बेतवज्जुही की शैली या ढंग 3.जज्ब - आकर्षण, कशिश 4.शौक - चाहत, अभिलाषा, उत्कंठा 5.तर्के-शौक - चाहत या अभिलाषा का त्याग

 

*****

वही रात मेरी, वही रात उनकी

कहीं बढ़ गई है कहीं घट गई है,
लूटने वाले हमारी नींद को,

किस मजे से रात भर सोया किये।
-'साकिब' लखनवी
 

*****


वाँ वह गरूरे-इज्जो-नाज, यां यह हिजाबे-पासे-वज्अ,
राह में हम मिले कहाँ, बज्म में वह बुलाये क्यों?

-मिर्जा गालिब


1.इज्ज - नम्रता, विनीति
2.नाज - (i) मान, अभिमान (ii) नाजोअदा 2.हिजाब - आड़, ओट, पर्दा

3. पास - लिहाज, संकोच, शील 4.वज्अ - शैली, ढंग 6. बज्म - महफिल

 

*****

<< Previous  page -1-2-3-4-5-6-7-8-9-10-11-12-13-14-15-16-17-18-19-20-21-22-23-24-25-26-27-28-29-30-31-32-33-34-35-36-37-38-39-40-41-42-43-44-45-46-47-48-49-50-51-52-53-54-55-56-57-58-59-60-61-62-63-64-65-66-67-68-69-70-71-72-73-74       Next >>