शेर-ओ-शायरी

<< Previous  हुस्न  (Beauty)   Next>>

हुस्न हो क्या खुदनुमा जब कोई माइल ही न हो,
शम्अ को जलने से क्या मतलब जो महफिल न हो।

-मोहम्मद इकबाल


1.खुदनुमा - अपने सौंदर्य अथवा हुस्न का प्रदर्शन करने वाला, आत्मप्रदर्शी 2.माइल - (i) आकर्षित, प्रवृत्त (ii) आसक्त, आशिक

 

 *****

हुस्न की हर इक अदा पै जानो-दिल सदके मगर,
लुत्फ कुछ दामन बचाकर ही गुजर जाने में है।
-'जिगर' मुरादाबादी


1. सदका - न्योछावर 2.लुत्फ - आनन्द, खुशी

 

*****

हुस्न खुद आये तवाफे-इश्क करने के लिये,
इश्क वाले जिन्दगी में हुस्न तो पैदा करें।


1.तवाफ - परिक्रमा, परिक्रमण, किसी चीज के चारो ओर फिरना
2. इश्क - (i) प्रेम, अनुराग, मुहब्बत (ii) कोई भी सुन्दर चीज, वस्तु आदि जिसकी चाहत दिल में हो। 3. इश्क वाले - कामना या ख्वाहिश रखने वाले, ख्वाहिशमंद 4. हुस्न - सौन्दर्य, सुन्दरता, खूबसूरती

 

*****


हुस्न में कुछ शोखियाँ आने को है,
अब हया की पासबानी जायेगी।
-'दिल' शाहजहाँपुरी


1.शोखियाँ - चपलता, चुलबुलाहट, चंचलता 2.हया - लज्जा, शर्म, व्रीड़ा

 3. पासबानी - निगरानी
 

*****

 

<< Previous  page -1-2-3-4-5-6-7-8-9-10-11-12-13-14-15-16-17-18-19-20-21-22-23-24-25-26-27-28-29-30-31-32-33-34-35-36-37-38-39-40-41-42-43-44-45-46-47-48-49-50-51-52-53-54-55-56-57-58-59-60-61-62-63-64-65-66-67-68-69-70-71-72-73-74        Next >>