शेर-ओ-शायरी

   कमर्फी  (Small-mindedness)  Next >>

उठा सके आदमी तो पहले नजर से अपनी नकाब उठाये,
जमाने भर की तजल्लियों से नकाब उल्टी हुई मिलेगी।

-नवाब झांसवी


1. तज़ल्ली- प्रकाश, आभा, नूर, रोशनी

 

*****


एक हमें आवारा कहना, कोई बड़ा इल्जाम नहीं,
दुनिया वाले दिल वालों को और बहुत कुछ कहते हैं।

-हबीब जालिब

 

*****

 
करके एहसान जताता फिरे जो दुनिया को,
ऐसा कमजर्फ के एहसान से डर लगता है।

-अरशद इटावी


1.कमजर्फ - अनुदार, तंग-नजर, कमीना, ओछा, तुच्छ

 

*****

कह  रहा था शारे-दरिया से समन्दर का सकूत,
जिसमें जितना जर्फ है, उतना ही वह खामोश है।

-नातिक लखनवी


1.सकूत - खामोशी, शांति 2.जर्फ - (i) गंभीरता, सहनशीलता

(ii) योग्यता, सलाहियत

 

*****

 

                                                page - 1 - 2 - 3  Next >>