शेर-ओ-शायरी

<< Previous   महफ़िल 

सवाल उनका,जवाब उनका, सुकूत उनका, इताब उनका,
हम उनकी अंजुमन में सर न खम करते तो क्या करते।
-मजरूह सुल्तानपुरी
 

1.सुकूत - खामोशी, चुप्पी 2. इताब - गुस्सा, क्रोध, कोप  
3.अंजुमन - महफिल 4.खम - (i) झुकाव (ii) वक्रता, टेड़ापन

 

*****


सुना था तेरी महफिल में सुकूने-दिल भी मिलता है,
मगर हम जब भी तेरी महफिल से आये, बेकरार आये।
 

*****


हुस्न हो क्या खुदनुमा जब कोई माइल ही न हो,
शम्अ को जलने से क्या मतलब जो महफिल न हो।
-मोहम्मद इकबाल


1.खुदनुमा - अपने सौंदर्य अथवा हुस्न का प्रदर्शन करने वाली या वाला, आत्मप्रदर्शी
2.माइल - (i) आकर्षित,प्रवृत्त (ii) आसक्त, आशिक


*****

 

    << Previous  page - 1 - 2 - 3 - 4 - 5 - 6 - 7 - 8