शेर-ओ-शायरी

   रहनुमाई (Leadership)  Next >>

अपने वो रहनुमा हैं कि मंजिल तो दरकनार,
कांटे रहे - तलब में बिछाते, चले गए।

-असर लखनवी


1.रहनुमा - मार्ग दिखाने वाला, प्रथ-प्रदर्शक

2. दरकनार - एक तरफ,अलग;एक तरफ रहा, अलग रहा

 

*****

क्या मिला खिज्र से सिकन्दर को,
अब किसको रहनुमा करे कोई।

-मिर्जा गालिब


1.खिज्र - एक अमर पैगम्बर जो भूले-भटको को मार्ग बताते हैं

2. रहनुमा - मार्ग दिखाने वाला, प्रथ-प्रदर्शक

*****

खुलूसे-रहजन नें मुझे इतना गिरवीदा बनाया है,
फरेबे-रहनुमा खाने की गुंजाइश बहुत कम है।

-अब्दुल हमीद 'अदम'


1.खुलूसे-रहजन - लूटेरे (यानी गैरों) का निष्कपट प्यार

 2. गिरवीदा - आसक्त, मुग्ध, मोहित, लट्टू
3.फरेबे-रहनुमा - राह दिखाने वाले द्वारा दिया जाने वाला धोखा

 

*****


जरा मुल्क के रहबरों को बुलाओ,
ये कूचे ये गलियाँ,ये मंजर दिखाओ।
ये भूकी निगाहें, हसीनों की जानिब,
ये बढ़ते हुए हाथ सीनों के जानिब।
ये लपकते हुए पाँव जीनों की जानिब,
कहां हैं, कहां हैं मुहाफिज खुदी के
सनाख्वाने-तकदीसे-मशरिक कहाँ हैं?

-साहिर लुधियानवी

1.रहबर - रास्त दिखाने वाला, नेता

2. कूचा - दो घरों के बीच की तंग गली, गली
3. मंजर - दृष्य, नजारा 4.जानिब - ओर

5. मुहाफिज - रक्षक, हिफाजत करने वाला
6. खुदी - यह भाव कि बस हमीं हम हैं, अहंकार, अभिमान
7. सनाख्वाने-तकदीसे-मशरिक- पूरब (यानी पूर्वी सभ्यता) की पवित्रता (या श्रेष्ठता) की तारीफ करने वाले

 

*****

 

                                                    page - 1 - 2 - 3 - 4 Next >>