शेर-ओ-शायरी

<< Previous  रंज-ओ-ग़म  (Sorrows and sufferings)

Next>> 

दुनिया के रंजो-गम से जब फुर्सत न मिल सकी,
आखिर को थक के सो गये कुंजे-मजार में।


*****

 

दुनिया में हूं दुनिया का तलबगार नहीं हूँ ,
बाज़ार से गुजरा हूँ खरीदार नहीं हूँ,
जिंदा हूँ मगर ज़ीस्त की लज्ज़त नहीं बाकी,
हरचंद होश में हूँ , होशियार नहीं हूँ इ
-अकबर इलाहाबादी

 

1.तलबगार - ख्वाहिशमंद, मुश्ताक, इच्छुक, अभिलाषी 2.जीस्त - जिंदगी

3.होशियार -  सचेत, हवास में


*****

देखने के हैं सब, ये दुनिया के मेले,
मरी बज्म में हम रहे हैं अकेले।


*****
 

दैर नहीं, हरम नहीं, दर नहीं, आस्ताँ नहीं,
बैठे हैं रहगुजर पै हम, कोई हमें उठाये क्यों?

-मिर्जा 'गालिब'


1.दैर- बुतखान,
, मंदिर 2 हरम- काबा या खुदा का घर। 3.दर-दरवाजा

4.आस्ताँ-चौखट, दहलीज। 4.रहगुजर-रास्ता, पथ
 

*****


दो गुल कफस में रखके न सैयाद दे फरेब,
देखा ही जैसे हमने नहीं आशियाँ कभी।

-आनन्द नारायण 'मुल्ला'


1.गुल-फूल 2.कफस-पिंजड़ा।3.सैयाद-बहेलिया, चिड़ीमार

 

*****

 

<< Previous  page -1-2-3-4-5-6-7-8-9-10-11-12-13-14-15-16-17-18-19-20-21-22-23-24-25-26-27-28-29-30-31-32-33-34-35-36-37-38-39-40-41-42-43-44-45-46-47-48-49-50-51-52-53-54-55-56-57-58   Next >>