शेर-ओ-शायरी

   साहिल (Shore)  Next >>

अच्छा है डूब जाये सफीना हयात का
उम्मीदो-आरजूओं का साहिल नहीं रहा।
-'असर' लखनवी


1.सफीना - नाव, नौका, किश्ती 2.हयात - जिन्दगी

3. साहिल - किनारा, तट।

 

*****

ऐ देखने वाले साहिल से, मौजों से लिपट, तूफां से उलझ
नज्जारा-ए-तूफां करने से, अन्दाजए-तूफां क्या होगा।


1.साहिल - किनारा, तट

 

*****

कनारों से मुझे ऐ नाखुदा तुम दूर ही रखना
वहां लेकर चलो तूफां जहाँ से उठने वाला है।


1. नाखुदा - मल्लाह, नाविक, कर्णधार

 

*****

कहते हैं उन्हीं को दुश्मने-दिल, है नाम उन्हीं का नासेह भी
वे लोग जो रह कर साहिल पर, तूफान की बातें करते हैं।


1.नासेह - नसीहत देने वाला, धर्मोपदेशक 2.साहिल - किनारा, तट

 

*****

 

                       page - 1 - 2 - 3 - 4 - 5 - 6 - 7 - 8  Next >>