शेर-ओ-शायरी

  सुकून-ए-दिल  (Peace of mind)  

अच्छा है दिल के पास रहे, पासबाने -अक्ल,
लेकिन कभी - कभी इसे तन्हा भी छोड़ दें।
-मो. इकबाल


1.पासबान - निगरानी करने वाला, निगहबां, निगराँ

 

*****

एक घड़ी, एक पल भी सुख का, वक्त बहुत उस रही को,
जीवन जिसका बीत गया हो, कांटों पर चलते - चलते।

-अख्तर-उल-ईमान

 

*****

मेरी मुफलिसी से बचकर कहीं और जाने वाले,
ये सकूँ न मिल सकेगा तुझे रेशमी कफन में।
-कतील शिफाई


1.मुफलिसी - गरीबी, निर्धनता

 

*****

सुकूने -दिल जहाने - बेशोकम में ढूढ़ने वाले,
यहां हर चीज मिलती है सुकूने-दिल नहीं मिलता।

-जगन्नाथ आजाद


1.जहाने–बेशोकम - थोड़ा-बहुत यानी लाभ हानि की दुनिया

*****