शेर-ओ-शायरी

<< Previous   तक़दीर ( Destiny ) Next>>  

सहारा ले न ऐ दिल तू सहारे टूट जाते हैं
भरोसा कर न किस्मत पर सितारे टूट जाते हैं,
साहिल पै पहुँचकर यह न समझना, बच निकले
जरा लहरों को मौज आए, किनारे डूब जाते हैं।


1.मौज - उमंग, वलवला, उत्साह, जोश
 

*****

 

साया भी शाखे-गुल का न हमको हुआ नसीब,
ऐसे कई बहार के मौसम गुजर गये।

-'रियाज' खैराबादी

 

*****


साहिल पै पहुँचकर यह न समझना, बच निकले
जरा लहरों को मौज आए, किनारे डूब जाते हैं।


1.साहिल - किनारा, तट 2.मौज - उमंग, वलवला, उत्साह, जोश

 

*****

 

सिर्फ इक कदम उठा था गलत राहे-शौक में,
मंजिल तमाम उम्र मुझे ढूँढ़ती रही।
-अब्दुल हमी अदम
 

*****

 

                 

<< Previous  page - 1-2-3-4-5-6-7-8-9-10-11-12-13-14-15-16-17-18-19-20-21-22-23-24  Next >>