शेर-ओ-शायरी

<< Previous   उम्मीद ( Hope )  Next >>

झूठी ही तसल्ली दो, उम्मीद तो बंध जाए,
धुंधली –सी सही लेकिन इक शम्अ तो जल जाए।
-'फना' कानपुरी
 

*****

तबिअत जब नई उम्मीद से मानूस होती है,
तमन्नाओं में ताजा जिन्दगी महसूस होती है।
-अब्दुल हमीद 'अदम'


1.मानूस - आसक्त, आशान्वित


*****

तरके-उम्मीद बस की बात नहीं,
वरना उम्मीद कब बर आई है।

-'फानी' बदायुनी


1.तरके-उम्मीद - उम्मीद छोड़ना या त्यागना 2. बर - सफल, कामयाब

 

*****

तूफान-ए-गम की तुन्द हवाओं के बावजूद ,
एक शमए-आरजू है जो अब तक नहीं बुझी।
'शाद' बात क्या है कि बज्मे- हयात में,
शमएं तो जल रही हैं मगर रौशनी नहीं।

- नरेश कुमार शाद


1.तुन्द - (i) तीव्र, प्रचंड, पुरजोर, तेज (ii) क्रुध, कुपित, गुस्से में

 2.बज्मे-हयात - जीवन की महफिल

 

*****

<< Previous   page - 1-2-3-4-5-6-7-8-9-10-11-12-13  Next >>