शेर-ओ-शायरी

<< Previous  ज़माना [Modern times (as opposed to older ones)]    Next>>

ये शाख काटी वो शाख काटी इसे उजाड़ा उसे उजाड़ा,
यही है शेवा जो बागबां का तो हम गुलिस्तां से जा रहे हैं।

-नफीस सन्देलवी
 

1.शेवा - ढंग, तर्ज, तरीका


*****


रहजनों से तो भाग निकला था,
अब मुझे रहबरों ने घेरा है।


1.रहजन - लुटेरा, डाकू, रास्ते में पथिकों को लूट लेने वाला  2. रहबर - पथप्रदर्शक, आगे-आगे चलने वाला,

रास्ता बताने वाला
 

*****

रहबर या तो रहजन निकले या हैं अपने आप में गुम,
काफले वाले किससे पूछें किस मंजिल तक जाना है।

-अर्श मल्सियानी
 

1.रहजन - डाकू, लुटेरा, रास्ते में पथिकों को लूट लेने वाला


*****
रहबरो-रहजन यही दो आफतें थी राह की,
राहरौ दो आफतों के दर्मियाँ मारा गया।

-अब्दुल हमीद 'अदम'


1.राहरौ- राहगीर, पथिक, मुसाफिर 2.रहजन-
लुटेरा, डाकू, रास्ते में

पथिकों को लूट लेने वाला
 

 

*****

 

<< Previous    page-1-2-3-4-5-6-7-8-9-10-11-12-13-14-15-16-17-18-19-20-21-22-23-24-25-26-27-28-29-30-31-32-33   Next>>