शेर-ओ-शायरी

<< Previous  ज़िन्दगानी (Life) Next >>

किसका कुर्ब,कहाँ की दूरी, अपने आप में गाफिल हैं,
राज अगर पाने का पूछो, खो जाना ही पाना है।
-'अर्श' मल्सियानी


1.कुर्ब - समीपता, नजदीकी, निकटता

2.गाफिल - (i) संज्ञाहीन, बेहोश (ii) असावधानी, बेखबर (iii) आलसी, काहिल
 

*****


किसको रोता है उम्र भर कोई,
आदमी जल्द भूल जाता है।


*****

किसी के काम न जो आए वह आदमी क्या है,
जो अपनी ही फिक्र में गुजरे, वह जिन्दगी क्या है?
-'असर' लखनवी
 

*****


कुछ उम्मीदे-करम में गुजरी है,
कुछ उम्मीदे -करम में गुजरेगी।

*****

                 

<< Previous    page - 1-2-3-4-5-6-7-8-9-10-11-12-13-14-15-16-17-18-19-20-21-22-23-24-25-26-27-2829-30-31-32-33-34-35-36-37-38-39-40-41-42-43-44-45  Next>>