शेर-ओ-शायरी

<< Previous  ज़िन्दगानी (Life)  Next>>

जिन्दगी है मगर गर्मिए-रफ्तार का नाम,
मंजिलें साथ लिये राह पै चलते रहना।

-'शकील' बदायुनी


1.गर्मिए-रफ्तार - चलते रहने के कारण उत्पन्न गर्मी

 

*****

जिन्दगी अपने आइने में तुझे अपना चेहरा नजर नहीं आता,
जुल्म करना तो तेरी आदत है, जुल्म सहना मगर नहीं आता।

-नरेश कुमार 'शाद'

*****

जिन्दगी की राहों में, गम भी साथ चलते हैं,
कोई गम में हँसता है, कोई गम में रोता है।

-'खातिर' गजनवी
 

*****


जिन्दगी के दाम इतने गिर गये कुछ गम नहीं,
मौत की बढ़ती हुई कीमत से घबराता हूँ मैं।

-नीरज जैन
 

*****

 

<< Previous    page -1-2-3-4-5-6-7-8-9-10-11-12-13-14-15-16-17-18-19-20-21-22-23-24-25-26-27-2829-30-31-32-33-34-35-36-37-38-39-40-41-42-43-44-45  Next>>