शेर-ओ-शायरी

<< Previous  ज़िन्दगानी (Life)   Next>>

दिल गया रौनके-हयात गई,
गम गया सारी कायनात गई।

-'जिगर' मुरादाबादी
 

1.रौनक - (i) शोभा, छटा, सुहानापन (ii) चमक-दमक, तड़क-भड़क (iii) प्रसन्नता और हर्ष की लहर 2.कायनात - (i) ब्रहमांड (ii) दुनिया, संसार
 

*****


दिल बुझा शम्ए-कायनात गई,
जिन्दगी की उजाली रात गई।

-आनन्द नारायण 'मुल्ला'


1.शम्ए-कायनात - संसार की रौशनी या दुनिया की रौनक


*****


दिल बेनियाजे-आरजू-ए-इल्तिफात है,
शायद इसी का सुकूने- हयात है।

-'शकील' बदायुनी


1.बेनियाजे-आरजू-ए-इल्तिफात- मेहरबानी की ख्वाहिश से

उदासीन या निस्पृह 2. सुकूने-हयात - जिन्दगी का सुख-चैन
 

*****

 

देखा है जिन्दगी को कुछ इस करीब से,
चेहरे तमाम लगने लगे हैं, अजीब से।

-साहिर लुधियानवी

 

*****
 

<< Previous    page -1-2-3-4-5-6-7-8-9-10-11-12-13-14-15-16-17-18-19-20-21-22-23-24-25-26-27-2829-30-31-32-33-34-35-36-37-38-39-40-41-42-43-44-45  Next>>