शेर-ओ-शायरी

<< Previous  ज़िन्दगानी (Life)  Next>>

रस्ते में हर कदम पै खराबात हैं'अदम',
यह हाल है तो किस तरह दामन बचाइए।

-अब्दुल हमीद 'अदम'


1.खराबात - मदिरालय, शराबखाना

 

*****

रस्मे-दुनिया है कोई खुश हो, कोई आबाद हो,
जब उजड़ जाये चमन तो कफस आबाद हो।


1.कफस - पिंजड़ा


*****

रहेंगे न ये दिन मल्लाह हमेशा,
थोड़े दिन में गंगा उतर जायेगी।

-'ख्वाजा' हाली
 

*****


रहे असीर तो शिकवा हुए असीरी के,
रिहा हुआ तो मुझे गम है रिहाई का।

-जलील मानिकपुरी


1.असीर - बंदी, कैदी 2. असीरी - कैद, कारावास

 

*****
 

<< Previous    page -1-2-3-4-5-6-7-8-9-10-11-12-13-14-15-16-17-18-19-20-21-22-23-24-25-26-27-2829-30-31-32-33-34-35-36-37-38-39-40-41-42-43-44-45  Next>>