शेर-ओ-शायरी

आशिक  (Aashiq)

उन्हें गुस्सा कि उनकी बज्म में मैं किस लिये आया,
मुझे यह गम कि वह पहलू में क्यों दुश्मन के बैठे हैं।

1.
बज्म - महफिल 2. पहलू - (i) पार्श्व, बगल (ii) अंक, क्रोड  (iii) समीपता, नजदीकी
 

*****