शेर-ओ-शायरी

अब्दुल हमीद अदम (Abdil Hamid Adam) Next >>

कफस से छूटने पै शाद थे हम कि लज्जते-जिन्दगी मिलेगी,
 
यह क्या खबर थी कि बहारे-गुलशन लहू में डूबी हुई मिलेगी।

 1.
कफस - पिंजड़ा, कारावास
 

*****


 
कौन कौसर तक मसाफात तय करे,
 
मयकदा फिरदौस  से नजदीक  है।

 1.
कौसर -  स्वर्ग का एक कुण्ड या हौज 2.मसाफात - फासिला, दूरी 3.मयकदा - शराबखाना 4.फिरदौस - स्वर्

*****

 खुलूसे-रहजन ने मुझे इतना गिरवीदा बनाया है,
 
फरेबे - रहनुमा खाने की गुंजाइश बहुत कम है।

 1.
खुलूसे-रहजन -  लूटेरे (यानी गैरों) का निष्कपट प्यार

2. गिरवीदा - आसक्त, मुग्ध, मोहित, लट्टू
 3.
फरेबे-रहनुमा -  राह दिखाने वाले द्वारा दिया जाने वाला धोखा
 

*****


 
चलो एक मुश्किल तो आसाँ हुई,
 
सुना है रास्ता बहुत पुरखतर है।

 1.
पुरखतर - खतरनाक, भयानक, भीषण मुसीबतों और खतरों से भरा हुआ
 

*****

 

                                   1 - 2 - 3 - 4  Next >>