शेर-ओ-शायरी

 अब्र अहसन गन्नोरी (Abr Ahsan Gannori) 

  हर कदम पै आज उसको गर्दिशों ने घेरा है,
जिसने कि गर्दिशों का रूख हर कदम पै फेरा है।

1.
गर्दिश - (i) मुसीबत, परेशानी (ii) दुर्भाग्य, बदकिस्मती

*****