शेर-ओ-शायरी

अग्गाजान एस  (Aggajan-Es)

 

' शम्अ सुबह होती है, रोती है किसलिए,
  थोड़ी-सी रह गई है, इसे भी गुजार दे।
 

*****