शेर-ओ-शायरी

अमजद हैदराबादी  (Amzad Haidrabadi)

हुस्ने-सूरत को नहीं कहते हैं हुस्न,
हुस्न तो हुस्ने-अमल का नाम है।

1.
अमल - काम का सौन्दर्य, कर्म की सुन्दरता

*****