शेर-ओ-शायरी

अंजुम  (Anjum)

आया ही था खयाल कि आंखें छलक पड़ीं,
आंसू किसी की याद के कितने करीब हैं।
 

*****