शेर-ओ-शायरी

 

                 असर लखनवी  (Asar Lakhnavi)  Next >>

 

अच्छा है डूब जाये सफीना हयात का,
 
उम्मीदो-आरजूओं का साहिल नहीं रहा।

 1.
सफीना -  नाव, नौका, किश्ती 2.हयात-जिन्दगी 3.साहिल - किनारा, तट।
 

*****


 
अपने वो रहनुमा हैं कि मंजिल तो दरकनार,
 
कांटे रहे - तलब में बिछाते चले गए।

 1.
रहनुमा - मार्ग दिखाने वाला, प्रथ-प्रदर्शक 2. दरकनार -  एक तरफ,अलग

*****

 अपने ही दिल के आग में शम्अ पिघल गई,
 
शम्ए-हयात मौत के सांचे मे ढल गई।

 1.
शम्ए-हयात -  जिन्दगी की शम्अ।
 

*****


 
अहले-हिम्मत ने हुसूले-मुद्दआ में जान दी,
 
और हम बैठे हुए रोया किये तकदीर को।

 1.
अहले-हिम्मत - साहसी, हिम्मती 2. हुसूले-मुद्दआ -  उद्देश्य की प्राप्ति

*****

1 - 2 - 3 - 4 - 5 - 6 - 7 - 8 - 9 - 10 - 11 - 12 - 13 - 14 - 15 - 16 - 17 - 18 - 19  Next >>