शेर-ओ-शायरी

 अय्याज़ झांसवी  (Ayyaz Jhaansvi)  

 

तुम क्या मिले कि फैले हुए गम सिमट गये,
सदियों के फासिले जो थे, लमहों में कट गये।
 

*****