शेर-ओ-शायरी

अज़ीज़ जोधपुरी  (Aziz Jodhpuri)  

आ कि तुझ बिन कम हुआ जाता है लुत्फे-जिन्दगी,
टिमटिमाता है चरागे - जिन्दगी तेरे बगैर।

 

*****